Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Lost contact at the last minute but did not learn defeat - inspiring
Lost contact at the last minute but did not learn defeat - inspiring
Breaking News Motivational National

अंतिम क्षणों में संपर्क टूटा पर हार नहीं सीख मिली- प्रेरणादायक

नई दिल्ली || इतिहास बनाने से चंद सेकंड की दूरी और गुमनाम हो गया वह सपना जो हर भारतीय की आंखों में किसी चमक की तरह था।  अंतिम क्षणों में जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटने के बाद माइक्रो ब्लॉगिंग साइट टि्वटर पर इसरो के वैज्ञानिकों के समर्थन में संदेशों की बाढ़ आ गई।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘भारत को अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया और हमेशा भारत को गौरवान्वित किया। ये साहसी होने के क्षण है और हम साहस का परिचय देंगे।’’ ज्या

एक टि्वटर यूजर ने कहा, ‘‘इसरो के मेरे प्रिय मेहनती और प्रेरणादायी वैज्ञानिकों, सिर्फ इतना याद रखिए कि विज्ञान के क्षेत्र में कोई हार नहीं होती, जीत होती है और फिर सीख होती है। मुझे भरोसा है कि आपने चंद्रयान-2 के दौरान काफी कुछ सीखा होगा, जो भविष्य के मिशनों में निश्चित तौर पर हमारी मदद करेगा।’’

विक्रम की लैंडिंग के मद्देनजर टि्वटर पर हैशटैग चंद्रयान2 ट्रेंड कर रहा था। संपर्क टूटने की खबर आने के बाद 87,000 ट्वीट किए गए।  एक यूजर आशीष शर्मा ने ट्वीट किया, ‘‘सफलता अंतिम नहीं है, असफलता भी घातक नहीं है। हमने बस संपर्क खोया, उम्मीद नहीं।’’ संचार पेशेवर हारिणी कैलामुर ने कहा कि असफलता प्रगति की ओर महज एक कदम है।

तेलुगु अभिनेता सुधीर बाबू ने देश की ‘‘साहसी कोशिश’’ की सराहना की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘इसरो पर गर्व है। चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र की संभावनाओं को सभी जोखिमों के कारण तलाशा नहीं गया। भारत की साहसिक कोशिश ना केवल हमारे भविष्य के अंतरिक्ष कार्यक्रमों का मार्गदर्शन करेगी बल्कि अन्य अंतरिक्ष ताकतों का भी मार्गदर्शन करेगी। प्रयोग विज्ञान का मूलभूत कदम है।’’

Related posts