fbpx
National Thoughts
Business

एयर प्यूरीफायर का बिजनेस 60% बढ़ा    

नेशनल थॉट्स डेस्क।  प्रदूषण के कारण सांसों की आफत झेल रहे लोग अब बड़ी संख्या में साफ हवा के लिए एयर प्यूरीफायर खरीद रहे हैं। कई कंपनियों की ग्रोथ इस कैटिगरी में साल भर के अंदर 60% तक बढ़ गई है। एयर प्यूरीफायर की डिमांड अभी भी सबसे ज्यादा दिल्ली-एनसीआर में है, लेकिन नए बाजारों के रूप में पंजाब, हरियाणा और वेस्ट यूपी के लोग भी एयर प्यूरीफायर खरीद रहे हैं।

इस बारे में हैवल्स इंडिया के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट राजीव कीनु ने कहा कि दिवाली के बाद हर साल एयर प्यूरीफायर की बिक्री बढ़ जाती है। इस बार हमें जालंधर, चंडीगढ़, मेरठ और सहारनपुर से भी डिमांड मिली है। हरियाणा में भी बिक्री बढ़ी है। उन्होंने बताया कि 11 हजार तक के एयर प्यूरीफायर ज्यादा बिक रहे हैं। इसकी वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि 2-3 साल में ट्रेंड बदला है। इनडोर पल्यूशन पर लोग जागरूक हुए हैं और इस रेंज में अच्छे एयर प्यूरीफायर मिल जाते हैं। वहीं, फिलिप्स ने कहा है कि उसके लिए यह सबसे तेजी से बढ़ रही कैटिगरी में एक है। कंपनी के पर्सनल हेल्थ विभाग के प्रेसिडेंट गुलबहार तउरानी ने बताया कि पिछले साल से अब तक हमारी ग्रोथ 60% बढ़ी है।

कंपनियां अब प्रॉडक्ट लॉन्चिंग पर भी ध्यान दे रही हैं। शाओमी ने उसका सबसे सस्ता प्यूरीफायर दिवाली से ठीक पहले मार्केट में उतारा है। कंपनी के हेड ऑफ कैटिगरीज रघु रेड्डी ने कहा, ‘लोगों को ऐसा प्रॉडक्ट चाहिए, जिसे वह खरीद सकें। हम साढ़े 6 हजार रुपये में ऐसा प्यूरीफायर दे रहे हैं, जो धूल के छोटे कणों को 99.97% तक फिल्टर कर देता है।’ घरों में एयर प्यूरीफायर का ज्यादा इस्तेमाल लिविंग रूम और बेडरूम में हो रहा है। यह किसी बेडरूम या 1बीएचके फ्लैट के लिए काफी हैं। पैनासॉनिक इंडिया के एयर प्यूरीफायर बिजनेस के जनरल मैनेजर सैयद मोनिस अली अल्वी ने कहा, ‘उनके प्रॉडक्ट 215 स्क्वॉयर फीट से 452 स्क्वॉयर फीट एरिया को कवर करते हैं।’ सैमसंग अगले साल की शुरुआत में इस कैटिगरी में नए प्रॉडक्ट लानेवाली है। भारत में एयर प्यूरीफायर का बाजार 2018 में 312 करोड़ रुपये का था। 2023 तक इसके 896 करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है।

Related posts

Leave a Comment