National Thoughts
Sports & Crickets

धोनी युग का अंत? क्रिकेट बोर्ड की लिस्ट से आउट

नेशनल थॉट्स डेस्क।  गुरुवार की दोपहर बीसीसीआई ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी की। इसमें पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम शामिल नहीं था। इसके साथ ही कयास लगने लगे कि धोनी के करियर पर अब पूर्ण विराम लग गया है। हालांकि, बोर्ड के सूत्रों का कहना था कि धोनी के लिस्ट से बाहर होने को उनके संन्यास से जोड़कर देखना सही नहीं है। वह पिछले छह महीनों से भारतीय टीम में नहीं हैं और नियमों के हिसाब से उनका कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू नहीं हुआ।

संन्यास के कयास के बीच शाम को खबर आई कि धोनी ने रांची में झारखंड रणजी टीम के साथ प्रैक्टिस शुरू कर दी है। पूर्व कप्तान ने पिछले साल जुलाई में न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मैच के बाद से कोई मैच नहीं खेला है। नई लिस्ट में शामिल 27 खिलाड़ियों में धोनी समेत उन चार खिलाड़ियों का नाम नहीं था जिन्हें पिछले साल बोर्ड ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट दिया था। नए कॉन्ट्रैक्ट की अवधि अक्टूबर 2019 से सितंबर 2020 तक है। पिछले साल धोनी को ए ग्रेड (5 करोड़ रुपये रिटेनर फीस) में जगह मिली थी।

सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में शामिल खिलाड़ियों को मैच फीस और अन्य भत्तों के अलावा रिटेनर फीस मिलती है। सबसे ज्यादा रिटेनर फीस (7 करोड़ रुपये) ए प्लस ग्रेड के क्रिकेटर्स को मिलती है। ऐसे क्रिकेटर्स की लिस्ट में नए कॉन्ट्रैक्ट के तहत कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमरा को रखा गया है। 5 करोड़ रुपये की रिटेनर फीस पाने वालों की लिस्ट में लोकेश राहुल ही नया नाम हैं जिनका पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर प्रदर्शन काफी लचर रहा था। हालांकि वह सीमित ओवरों के मैचों में निरंतर बढ़िया प्रदर्शन कर रहे हैं। इस ग्रेड में उन्हीं क्रिकेटर्स को जगह मिलती है जो तीनों फॉर्मेट में खेलते हैं।

कॉन्ट्रैक्ट पाने के लिए जरूरी नियमों के मुताबिक बीसीसीआई का सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पाने के लिए खिलाड़ी को 3 टेस्ट मैच या 8 वनडे मैच खेलना जरूरी है। अगर उसने टेस्ट या टी20 मैच बिलकुल नहीं या कम खेले हो तो वह कुछ टी20 मैच खेलकर भी कॉन्ट्रैक्ट पा सकता है।

Related posts