Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
National Thoughts
CORONA VIRUS MASK
Breaking News National

नकली मास्क बना कर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है

आलोक गौड़

सारा देश इस वक्त कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण खौफजदा है । इसकी चपेट में आने से बचने के लिए देशभर में लाक डाउन किया गया है। पुलिस और प्रशासन लोगों को अपने घर से बाहर न निकलने देने के प्रबंध करने में जुटा हुआ है मगर ऐसे वक्त में भी कुछ अमानवीय आपराधिक तत्त्व नकली मास्क बना कर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं और जानलेवा इस वायरस को फ़ैलाने का घिनौना अपराध कर रहे हैं। इतना ही नहीं कुछ लोग सेनेटाइजर और मास्क की कालाबजारी कर रहे हैं।
वैश्विक महामारी का रूप धारण कर लेने वाली कोरोना वायरस की बीमारी से निपटने के लिए सरकार, पुलिस और प्रशासन का सारा ध्यान संकट की इस घड़ी में लाक डाउन को सफल बनाने के साथ ही लोगों को राहत पहुंचाने की ओर लगा हुआ है। इस स्थिति का फायदा नकली वह घटिया किस्म के मास्क बनाने और सेनेटाइजर की कालाबाजारी करने वाले उठा रहे हैं।
मिली जानकारी के मुताबिक नकली मास्क बनाने का काम पूर्वी दिल्ली के गांधीनगर इलाके में और नोएडा में चल रहा है। हैरानी की बात तो यह है कि नकली मास्क बनाने वालों का दावा है कि उनके यहां बनने वाले मास्क की आपूर्ति सरकारी अस्पतालों में भी की जा रही है। अगर यह बात सही है तो समझा जा सकता है कि खतरा कितना बड़ा और गंभीर है।
पता चला है कि गांधीनगर इलाके के रघुबरपुरा में जो व्यक्ति नकली मास्क बनाने का काम कर रहा है, वह लाक डाउन से नल की टूटियों की पैकिंग के लिए प्लास्टिक की थैलियों बनाने का काम करता था। वह टूटियौं की पैकिंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले प्लास्टिक से ही ठेके पर नकली मास्क बनवा रहा है। जो लोग ये मास्क बनाने का काम कर रहे हैं न तो उनके पास मास्क बनाने का कोई तकनीकी ज्ञान है और न ही वह मास्क बनाते समय साफ सफाई और स्वच्छता का ध्यान रख रहे हैं। इससे यह अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है कि इस तरह के मास्क लोगों के लिए कितने खतरनाक साबित हो सकते हैं। यह व्यक्ति आठ रूपए की दर से एक दिन के भीतर बीस हजार तक मास्क मुहैया कराने का दावा कर रहा है। इतना ही नहीं उसके मुताबिक उसके मास्क की सप्लाई गुरु तेग बहादुर अस्पताल में भी हो रही है। नकली मास्क बनाने का काम रघुबरपुरा और आसपास के इलाकों में भी चल रहा है। इसी प्रकार काम नोएडा में भी चल रहा है।
एक ओर तो नकली मास्क बनाने का काम किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर बढ़िया किस्म के मास्क और सेनेटाइजर की कालाबाजारी भी जोरों पर है। सरकार की ओर से कोरोना वायरस के संकमण से बचाव के लिए आवश्यक मास्क और सेनेटाइजर की कालाबाजारी पर रोक लगाने या इन्हें उचित मूल्य पर मुहैया कराने की दिशा में ठोस कदम नहीं उठाने की वजह से लोगों को मजबूरी में मनमाने दाम चुका कर यह दोनों चीजें खरीदनी पड़ रही हैं।

Related posts