fbpx
National Thoughts
Breaking News National

भाजपाई केवल राम के नाम से खाते हैं और हिंदूवादी की बात करते हैं : चौबे

नेशनल थॉट्स डेस्क। छत्तीसगढ़ में महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे के बाद अब राम पर राजनीति शुरू हो चुकी है। कांग्रेस नेता व कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके राम मॉब लिंचिंग, चंदे और धंधे वाले राम ही केवल बनकर रह गए है। कृषि मंत्री चौबे कांग्रेस की ओर से होने वाले कार्यक्रम ‘कौशल्या के राम’को लेकर भाजपा के आरोपों के बाद जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारे राम शबरी के राम हैं, निषाद के राम हैं, वनवासी के राम हैं। लेकिन भाजपा के राम मॉब लिंचिंग के राम हैं, चंदा बटोरने के राम हैं। देश की संस्कृति में रामलीला रची बसी है, इसलिए कांग्रेस रामलीला करवा रही है। कैबिनेट मंत्री रविन्द्र चौबे के राम भगवान को लेकर दिए बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया है। बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव का कहना है कि कांग्रेस अगर राम की भक्ति तो हमें कोई आपत्ति नहीं है। कांग्रेस को काफी सालों बाद समझ आया कि राम भगवान की भक्ति करनी चाहिए।

 

चौबे ने कहा कि भाजपा ने हमेशा राम नाम का दुरुपयोग किया है। दरअसल, रायपुर में शुक्रवार से रामलीला महोत्सव शुरू हो रहा है। पहले दिन कौशल्या के राम का मंचन किया जाना है। इसमें मथुरा और छत्तीसगढ़ के कलाकार प्रस्तुति देंगे। रामलीला के मंचन को लेकर भाजपा ने आरोप लगाया था कि कांग्रेस राम भगवान को हाईजैक करने की कोशिश कर रही है। इससे पहले गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने भी भगवान राम को लेकर कहा था कि भाजपा से ज्यादा कांग्रेस हिंदूवादी है। भाजपा वालों से ज्यादा कांग्रेसियों के घर राम का मंदिर है। भाजपाई केवल राम के नाम से खाते हैं और हिंदूवादी की बात करते हैं, लेकिन वे हिंदूवादी नहीं हैं।

 

बता दें कि छत्तीसगढ़ में भाजपा और कांग्रेस के बीच राष्ट्रपिता की जयंती पर गोडसे और सावरकर को लेकर शुरू हुई सियासत भगवान राम पर आ टिकी हैं। यह जुबानी जंग शुक्रवार को राम लीला के आयोजन को लेकर शुरू हुई थी, जहां अब यह भगवान राम के बंटवारे तक पहुंच गई। एक दिन पहले भाजपा ने रामलीला के बहाने कांग्रेस पर वोट बैंक बनाने का आरोप लगाया था। जहां अब इस पर जवाब देते हुए चौबे ने कांग्रेस और भाजपा के राम को अलग अलग बता दिया।

Related posts

Leave a Comment