fbpx
National Thoughts
Breaking News Business

वॉट्सऐप पर ‘दाग’ लगने से धड़ाधड़ डाउनलोड हो रहे हैं टेलीग्राम और सिग्नल

नेशनल थॉट्स डेस्क।  वॉट्सऐप में हैंकिंग होने का खुलासा अन्य बड़े मेसेजिंग और कॉलिंग ऐप्स टेलीग्राम और सिग्नल के लिए फायदेमंद दिख रहा है। इन दोनों ऐप्स के भारत में यूजर्स की संख्या बढ़ने से इसका संकेत मिल रहा है। सायबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स का कहना है कि इनके यूजर्स में बढ़ोतरी आगे भी जारी रहने की संभावना है। अमेरिकी ऐप एनालिटिक्स फर्म ऐप एनी की ओर से केवल ईटी को दिए गए डेटा में iOS ऐप स्टोर पर रविवार को सोशल नेटवर्किंग ऐप डाउनलोड कैटेगरी में सिग्नल के 39वें स्थान पर पहुंचने का पता चलता है। एक सप्ताह पहले सिग्नल 105वें स्थान पर थी।

गूगल प्ले पर कम्युनिकेशंस ऐप डाउनलोड कैटेगरी में सिग्नल शुक्रवार को 31वें स्थान पर पहुंच गई, जबकि एक सप्ताह पहले यह 255वें स्थान पर थी। वॉट्सऐप के लिए भारत लगभग 40 करोड़ यूजर्स के साथ सबसे बड़ा मार्केट है, लेकिन अब इसकी दबदबे वाली स्थिति में दरार आती दिख रही है। ऐप एनी के अनुसार, गूगल प्ले पर वॉट्सऐप मेसेंजर सबसे अधिक डाउनलोड की जाने वाली ऐप्स में पिछले सप्ताह पहले स्थान से गिरकर चौथे पर पहुंच गई। पहले तीन स्थानों पर UC ब्राउजर, फेसबुक मेसेंजर और ट्रूकॉलर की ऐप थी। सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स ने बताया कि रूस की ऐप टेलीग्राम और अमेरिकी ऐप सिग्नल को अधिक सुरक्षित माना जा रहा है।

सायबर सिक्योरिटी फर्म लुसिडिअस के को-फाउंडर राहुल त्यागी ने बताया, ‘एनक्रिप्शन के अलावा इसमें मेसेज की लंबाई की जांच करने जैसे फीचर्स भी हैं। अगर एक यूजर 32 कैरेक्टर का मेसेज भेजता है, तो यह इसकी पुष्टि करेगा कि अन्य यूजर को 32 कैरेक्टर का मेसेज मिला हा या नहीं। जब एक मेसेज भेजा जाता है तो टेलीग्राम उसे यूनीक सीक्वेंस नंबर देती है और एंड यूजर को मेसेज प्राप्त होने पर उस सीक्वेंस नंबर का मिलान किया जाता है। इस वजह से ऐसी ऐप्स में सिक्योरिटी बेहतर है।’

Related posts

Leave a Comment