fbpx
National Thoughts
Breaking News National

‘ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया’ से भारत होगा प्रदूषण मुक्त

 नेशनल थॉट्स डेस्क।  पर्यावरण के संरक्षण और हरित खेत्र को बढ़ने के लिए केंद्र सरकार ने एक नई पहल की है । दरअसल अफ्रीका में सेनेगल से जिबूती तक बनी हरित पट्टी की तर्ज पर गुजरात से लेकर दिल्ली-हरियाणा सीमा तक ‘ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया’ का निर्माण किया जाएगा। इस वॉल की लंबाई 1400 किलोमीटर जबकि चौड़ाई पांच किलोमीटर तक होगी।

आपको बता दें की अफ्रीका में इसका निर्माण पर्यावरणीय बदलावों और बढ़ते रेगिस्तान से निपटने के लिए किया गया है।  इसे ‘ग्रेट ग्रीन वॉल ऑफ सहारा’ भी कहा जाता है।  इसका मुख्य उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण के साथ पश्चिम की तरफ से आने वाली धूल भरी हवाओं को रोकना भी शामिल है। रिपोर्ट के अनुसार, सरकार का यह विचार अभी अपने शुरूआती दौर में है, लेकिन कई मंत्रालयों के अधिकारी इसे लेकर खासे उत्साहित नजर आ रहे हैं।  यदि इस प्रोजेक्ट को मंजूरी मिलती है तो यह भारत में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए भविष्य में भी एक मिसाल की तरह होगा। इसे थार रेगिस्तान के पूर्वी तरफ विकसित किया जाएगा। गुजरात के पोरबंदर से लेकर पानीपत तक बनने वाली इस ग्रीन बोल्ट से घटते वन क्षेत्र में इजाफा होगा।

इसके अलावा गुजरात, राजस्थान, हरियाणा से लेकर दिल्ली तक फैली अरावली की पहाड़ियों पर घटती हरियाली के संकट को भी कम किया जा सकेगा।  केंद्र  सरकार इस योजना को 2030 तक प्राथमिकता में रखकर जमीन पर उतारने पर विचार कर रही है।  इसके तहत 26 मिलियन हेक्टेयर भूमि को प्रदूषण मुक्त करने का लक्ष्य है। ‘ग्रेट ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया’ से हर साल पाकिस्तान और राजस्थान की तरफ से दिल्ली आने वाली धूल से निजात मिलेगी। टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक अधिकारी के हवाले से रिपोर्ट में लिखा- ‘भारत में घटते वन और बढ़ते रेगिस्तान को रोकने का ये आइडिया हाल ही में संयुक्त राष्ट्र की कॉन्फ्रेंस (COP14) से आया था। हालांकि, अभी इस आइडिया पर विचार किया जा रहा है। गुजरात से दिल्ली बॉर्डर तक ग्रीन वॉल बनवाने में कम से कम 2030 तक का वक्त लगेगा।  अफ्रीका में ‘ग्रेट ग्रीन वॉल’ पर करीब एक दशक पहले काम शुरू हुआ था।  हालांकि कई देशों की भागीदारी होने और उनकी अलग-अलग कार्यप्रणाली के चलते अब भी यह हकीकत में तब्दील नहीं हो सका है।  भारत सरकार ने ग्रीन वॉल प्रोजेत्ट के तहत 26 मिलियन हेक्टेयर भूमि को प्रदूषण मुक्त करने का लक्ष्य रखा है।

Related posts

Leave a Comment