National Thoughts
Business Uncategorized

हमेशा ताजा रहेंगी 2019 की ये खट्टी-मिठी यादें…

साल 2019 बीतने को है। 2020 नई उम्मीदों के साथ दस्तक देने को तैयार है। 2019 के कई लम्हें बेहद खास रहे। कुछ लम्हों ने ऐतिहासिक लकीरें खींची, तो कुछ बेहद तल्ख भी रहे। अब वैसे में जब हम 2020 का स्वागत कर रहे हैं, हमारी जेहन में खट्टी-मिठी यादें बनकर साल 2019 हमेशा महफूज रह जाएंगे। आइये एक बार नजर डालते हैं क्या कुछ खास रहा साल 2019 में …….

अनुच्छेद 370 का हटना
आजादी के 70 साल के बाद 5 अगस्त को भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटा दिया। इसके साथ ही अनुच्छेद 35ए भी खत्म हो गया। केन्द्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर और लद्याख को अलग-अलग केन्द्रशासित क्षेत्र भी बना दिया है। इसे लेकर जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजामात किए गये थे साथ ही कई नेताओं को नजरबंद भी किया गया।
तीन तलाक खत्म
1 अगस्त को संसद के दोनों सदनों की मंजूरी के बाद राष्ट्रपति ने भी तीन तलाक बिल को मंजूरी दे दी । इसके बाद से यह कानून बन गया। अब तीन तलाक गैर कानूनी है। दोष साबित होने पर तीन साल की सजा का प्रावधान है।अयोध्या मामला
सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को 491 साल पुराने अयोध्या मामले पर फैसला सुनाते हुए विवादित 2.77 एकड़ जमीन रामलला के मंदिर को सौंपने और मस्जिद के लिए अयोध्या में हीं पांच एकड़ जमीन देने का महत्वपूर्ण फैसला सुनाया। कोर्ट ने सरकार से यह भी कहा कि वह राममंदिर बनाने के लिए तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट का निर्माण करे।

2019 की महत्वपूर्ण घटनाएं
8 जनवरी : केन्द्र सरकार ने सामान्य वर्ग को दिया 10 प्रतिशत आरक्षण। गुजरात इसे लागू करने वाला पहला राज्य बना।

सीबीआई और ममता का रणः
साल के शुरूआती दौर में ही कोलकता से ये खबर आई कि तीन जनवरी को सीबीआई की 40 लोगों की टीम चिटफंड घोटाले में पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने कोलकता पहुंची। कोलकता पुलिस ने टीम के पांच अधिकारियों को हिरासत में ले लिया तो केन्द्र ने यहां सीआरपीएफ की तैनाती कर दी। ममता और सीबीआई के बीच तनातनी इतनी बढ़ी कि ममता बनर्जी धरने पर बैठ गयीं, वहीं बंगाल समेत कई राज्यों ने सीबीआई को अपने यहां आने पर प्रतिबंध लगा दिया।

डांस बारों को खोलने की इजाजत
इधर जनवरी में सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई के डांस बारों को दोबारा खोलने की इजाजत दे दी।

कुंभ का सफल आयोजन
प्रयागराज में कुंभ मेले का आयोजन सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। कुंभ में 15 करोड़ लोगों ने स्नान किया। कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 190 देशों को निमंत्रण भेजा गया था।

राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा
जुलाई-अगस्त- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। कार्यकर्ताओं और बड़े नेताओं की तमाम मान-मनौव्वल के बाद भी राहुल नहीं माने। ढ़ाई महीने बाद सोनिया गांधी दोबारा कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में कमान संभालीं।

सूरत में कोचिंग अग्निकांड :
24 मई को सूरत में भीषण अग्निकांड हुआ। शहर के तक्षशीला आर्केड के तीसरी मंजिल पर स्थित कोचिंग संस्थान में आग लग गयी, जिसमें 22 छात्रों की मौत हो गयी। ज्यादातर छात्रों की मौत भवन से कूदने से हुई।

फिल्मिस्तान अनाज मंडी अग्निकांड :
दिल्ली की अनाज मंडी में भीषण अग्निकांड में 46 लोगों की मौत हो गयी। साल के आखिरी महीनें में दिल्ली की अनाज मंडी में भीषण अग्निकांड में 46 लोगों की मौत हो गयी। 50 से ज्यादा लोग घायल भी हुए।

बदलापुर अग्निकांड :
26 नवंबर को मुंबई से सटे बदलापुर में एक केमिकल फैक्ट्री में आग लगने से 9 लोगों की मौत हो गयी थी।

पुलवामा आतंकी हमला
14 फरवरी को देष ने 46 जवानों को खो दिया। जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर स्थित पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर जैश के आत्मघाती आतंकी ने विस्फोटकों से भीर कार से हमला कर दिया था। इस हमले में सीआपीएफ के 46 जवान शहीद हो गये थे।

गढ़चिरौली नक्सली हमला
1 मई को महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों के एक बड़े हमले में विशेष कमांडो फोर्स के 16 जवान शहीद हो गये थे। जवान निजी वाहन से जा रहे थे।

दातेवाड़ा नक्सली हमला
9 अप्रैल को छतीसगढ़ के दातेवाड़ा में नक्सली हमले में पांच जवान शहीद हो गये।

कोर्ट से जुड़े मामले

अप्रैल-दिसंबर : उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता ने विधायक कुलदीप सेंगर पर आरोप लगाया।

योगी के आवास के सामने मदद न मिलने पर खुद को आग लगाई। पड़िता को ट्रक कुचलने का भी प्रयास हुआ। कोर्ट ने सेंगर को उम्रकैद की सजा सुनाई।

21 अगस्त : सीबीआई पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को दीवार फांदकर गिरफ्तार किया। जमानत पर 96 दिन बाद जेल से रिहा हुए।

मुट्ठी से निकला चांद

चंद्रयान-2 : 

29 जुलाई : इसरो ने चं्रद्रयान 2 की लांचिंग की। यह यान चांद के सफर पर निकला। इसे 48 दिन में 3.84 लाख किमी दूरी तय करनी थी। इसक विक्रम लैंडर को 7 सितंबर को चंद्रमा के दक्षिणी धु्रव पर उतरना था। लेकिन 6 सितंबरकी रात 1ः51 बजे चांद से 2.1 किमी उपर चंद्रयान से इसरो का संपर्क टूट गया। बाद में इसरो ने जानकारी दी कि चंद्रयान मिशन 99.5 प्रतिशत सफल रहा।

महाराष्ट्र का सियासी घमासान
सुबह अखबार के पन्ने कह रहे थे कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे सीएम हो सकते हैं। तभी टीवी पर खबर आने लगी-भाजपा के देवेन्द्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और एनसीपी के अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। राज्पाल भगत सिंह कोश्यारी ने राजभवन में उन्हें शपथ दिलाई। पर तीन दिन बाद यानि 72 घंटों के बाद ही अजित पवार ने देवेन्द्र का साथ छोड़ दिया । फ्लोर टेस्ट से पहले देवेन्द्र फडणवीस को भी इस्तीफा देना पड़ा।

हैदराबाद रेप केस :
6 दिसंबर : हैदराबाद में वेटनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म और उसकी हत्या के सभी चार आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। यह तब हुआ, जब देश भर में दुष्कर्मी हत्यारों को तत्काल फांसी देने की मांग कर रहे थे। लोगों ने पुलिस पर फूल बरसाए। पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार का आभार माना। कुछ लोगों ने सवाल भी उठाए। कर्नाटक हाईकोर्ट ने दोबारा पोस्टमार्टम के आदेश दिए।

अभिजित बनर्जी को नोबेल पुरस्कार
भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी को नोबेल पुरस्कार दिया गया। अभिजित अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में अर्थशास्त्र के फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल प्रोफेसर हैं।

प्रणव मुखर्जी को भारत रत्न
पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, जनसंघ नेता नानाजी देशमुख और मशहूर गायक भूपेन हजारिका को भारत रत्न से सम्मानित किया गया। इन्हें मिलाकर अब तक 48 लोगों को इस पुरस्कार से नवाजा गया है।

ठाकरे परिवार से उद्धव पहले सीएम
उद्धव ठाकरे सियासत का बड़ा चेहरा बनकर उभरे। भाजपा से नाता तोड़कर एनसीपी-कांग्रेस के साथ सरकार बनाई। ठाकरे परिवार से पहले सीएम भी हैं। 2012 में बाल ठाकरे के निधन के बाद उद्धव पार्टी प्रमुख बने।

बिग बी को दादा साहब फाल्के अवार्ड
66वां दादा साहब फाल्के पुरस्कार बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को दिया गया। 77 साल के अमिताभ इंडस्ट्री में 50 वर्ष का योगदान दे चुके हैं। 4 राष्ट्रीय व 15 फिल्मफेयर अवार्ड भी उन्हें मिल चुका है।

रवीश कुमार को रेमॉन मैग्सेसे अवार्ड
9 सितंबर को एनडीवी के रवीश कुमार को उनकी धरातल की पत्रकारिता के लिए रेमॉन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित किया गया। रवीश कुमार नोबेल के एशियाई समकक्ष, 2019 मैगसेसे पुरस्कार के पांच प्राप्तकर्ताओं में से हैं, जो “एशिया में आत्मा और परिवर्तनकारी नेतृत्व की महानता“ को मान्यता देते हैं।

हमने इन्हें खो दिया
2019 खास होने के अलावा दिल दुखाने वाला भी रहा। क्योंकि राजनीति, सिनेमा, साहित्य से जुड़े कई शख्सियतों ने दुनिया को अलविदा कह दिया। सबसे बड़ी क्षति भाजपा को हुई। उसने संकटमोचक अरूण जेटली, सुषमा स्वाराज और मनोहर पर्रिकर जैसे दिग्गजों को खोया। कांग्रेस ने अपनी ‘बेटी‘ शीला दीक्षित को खोया।

24 अगस्त को भाजपा के संटमोचक और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली दुनिया को अलविदा कह गये। जेटली लंबे समय से बीमार चल रहे थे।

संसद और संयुक्त राष्ट्र तक सुषमा के ओजस्वी भाषणों के गवाह बने। लेकिन 6 अगस्त के उनकी ये आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गयी।

17 मार्च को मनोहर पर्रिकर यानि पिपुल्स चीफ मिनिस्टर भी साथ छोड़ गये। गोवा मे ंबहुमत का संकट हुआ तो रक्षामंत्री का पद छोड़ सीएम बने।

20 जुलाई को शीला दीक्षित का 81 वर्ष की उम्र में निधन हुआ। उनके नेतृत्व में कांग्रेस ने 1998-2013 तक लगातार 15 साल दिल्ली पर राज किया।

8 सितंबर : मशहूर वकील राम जेठमलानी का निधन हो गया। महज 18 साल की उम्र में वकालत शुरू कर देष के सबसे कामयाब वकील बने थे।

10 नवंबर को पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन नहीं रहे। देश में चुनाव के नियमों को सख्ती को लागू करवाया। 1996 में रैमन मैग्सेसे अवार्ड मिला।

19 अगस्त को संगीतकार खय्याम ने इस दुनिया को अलविदा कहा। फरवरी 1927 में जन्मे खय्याम ने 50 से अधिक फिल्मों में अपना संगीत दिया। इनमें त्रिशूल, नूरी जैसी फिल्में है।

17 दिसंबर को डॉ. श्रीराम लागू अलविदा कह गये। इनका जन्म 1927 में हुआ था। जाने-माने अभिनेता लीगू ने 200 फिल्मों में काम किया।

19 फरवरी को हिंदी जगत के मशहूर साहित्यकार मानवर सिंह नहीं रहे। आलोचना को नई उचाईयों तक पहुचाई। आपको बता दें कि इन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था।

58 घंटे बाद पाकिस्तान से वापस लौटे अभिनंदन
1 मार्च बालाकोट एयरस्ट्राइक के हीरो विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान 58 घंटे बाद पाकिस्तान की गिरफ्त से छूटकर भारत पहुंचे। बाघा बॉर्डर पर उनका भव्य स्वागत हुआ। अभिनंदन ने पाक का हमला नाकाम करते हुए उसका एफ-16 लड़ाकू विमान मार गिराया था। पुलवामा हमले में 40 जवानों के शहीद होने के जबाव में भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पीओके बालाकोट स्थित आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी।मोदी है तो मुमकिन है!
मोदी की बड़ी जीत, लगातार दूसरी बार गैर कांग्रेसी सरकार सता में, ऐसा पहली बार2019 में 5 साल बाद नरेन्द्र मोदी का जादू फिर मतादाताओं के सिर चढ़कर बोला। भाजपा को 303 सीटों पर जीत मिली, जबकि 2018 में 282 सीटें जीती थी। इसी के साथ जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद नरेन्द्र मोदी तीसरे और पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने, जिन्होंने दूसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई।

चारो खाने कांग्रेस चीत
लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिली प्रचंड बहुमत से कांग्रेस चारो खाने चीत हो गयी। इसी से हताश होकर राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था।

अहम फैसले सुनाकर विदा हुए रंजन गोगोई
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो गये। रिटायमेंट से पहले उन्होंने कई बड़े और विवादित मुद्दों को सुलझाया।

कुछ विवादस्पद रहे बातें :-
सबरीमाला मंदिर विवाद
अयोध्या विवाद
वेंकटेश्वर मंदिर
असम एनआरसी
RTI के दायरे में CJI  ऑफिस, आदि महत्वपूर्ण फैसले शामिल हैं।
आर्मी चीफ बिपीन रावत का 31 दिसंबर को उनका कार्यकाल खत्म हो रहा है। इसके बाद वो चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बनेंगे।

Related posts