THOUGHTS

0
34
THOUGHTS
THOUGHTS

जो पुत्र पैदा ही न हुआ हो अथवा पैदा होकर मृत हो अथवा मुर्ख हो। इन तीनों में पहले दो ही बेहतर हैं। न की तीसरा, कारण यह है की प्रथम दोनों तो एक बार ही दुःख देते हैं। जबकि तीसरा पल -पल  दुःखदायी होता है।- स्वामी विवेकानंद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here