1984 के दोषियों के खिलाफ होनी चाहिए कार्रवाई – राहुल गांधी

0
15
National Thoughts
National Thoughts

खन्ना || भाजपा के बढ़ते प्रहार का सामना कर रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि 1984 के सिख विरोधी दंगों में शामिल लोगों को सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने अपनी पार्टी की ओवरसीज इकाई के प्रमुख सैम पित्रौदा को दंगों पर दिये गये बयान के लिए खरी खोटी सुनाई और कहा कि उन्हें अपने बयान पर शर्म आनी चाहिए और देश से माफी मांगनी चाहिए। होशियारपुर में रैली को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि 1984 में जो हुआ बहुत गलत था। उन्होंने कहा कि लोगों के दिल में जो दर्द है, आपको (पित्रोदा को) उसका सम्मान करना चाहिए और जिन्होंने 1984 में अपराध किया था, उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए और कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले पंजाब के खन्ना में राज्य में अपनी पहली रैली को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि सैम पित्रौदा ने 1984 (सिख विरोधी दंगे) के बारे में जो कुछ कहा है, वह गलत है और उन्हें देश से माफी मांगना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मैं यह सार्वजनिक रूप से कह रहा हूं और मैंने फोन पर भी उनसे यही बात कही है। पित्रौदा जी, आपने जो कुछ कहा है, वह पूरी तरह गलत है, आपको अपने आप पर शर्म आनी चाहिए। आपको सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। भाजपा ने ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख पित्रौदा के बयान को लेकर कांग्रेस पर हमला तेज कर दिया था क्योंकि 1984 का सिख विरोधी दंगा पंजाब में एक भावनात्मक मुद्दा है। राज्य में 19 मई को चुनाव है। गांधी ने नोटबंदी और जीएसटी को लेकर भी मोदी पर हमला किया। उन्होंने कहा कि इन फैसलों से लोगों की क्रयशक्ति पर बहुत बुरा असर पड़ा और लाखों लोग बेरोजगार हो गये। उन्होंने राफेल सौदे को लेकर भी मोदी पर प्रहार किया और उन पर दो करोड़ युवाओं को नौकरियां देने, किसानों की उपज के लिए आकर्षक मूल्य और हर नागरिक के खाते में 15 लाख रूपये लाने समेत 2014 से पहले के वादों को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि मोदी इन वादों के बारे में बात नहीं करते हैं, लेकिन सभी के सामने सच्चाई आ जाएगी। ग्रेस प्रमुख ने मोदी को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बहस की चुनौती देते हुए कहा कि आप बस 15 मिनट के लिए राफेल सौदे पर बहस कीजिए, लेकिन मोदी डरे हुए हैं। मैं चार सवाल पुछूंगा और मोदी देश को अपना चेहरा नहीं दिखा पायेंगे। न्याय योजना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब इसे लागू किया जाएगा तब भारत की आर्थिक ताकत एक बार फिर दुनिया को नजर आएगी जैसा कि अतीत में भारतीय अर्थव्यवस्था में मनमोहन सिंह का योगदान नजर आया और इसे अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा तक ने स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि न्याय से केवल गरीबों को लाभ नहीं होगा बल्कि अर्थव्यवस्था में नकदी के प्रवाह में भी मदद मिलेगी। इससे केवल युवकों को ही इंसाफ नहीं मिलेगा बल्कि छोटे व्यापारियों और छोटे कारोबार करने वाले लोगों को भी फायदा होगा । इससे अर्थव्यवस्था में पंख लग जायेंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री पर मनरेगा योजना का मजाक उड़ाने का भी आरोप लगाया और कहा कि उन्होंने इसे बेकार योजना बताकर देश के लोगों का अपमान किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here