इलेक्ट्रिक वाहनों को पेश करने के लिये दीर्घकालीन नियमन की जरूरतः हुंदै

0
22
सियोल,  (वेबवार्ता)। दक्षिण कोरिया की वाहन कंपनी हुंदै ने मंगलवार को कहा कि वाहन विनिर्माताओं को भारत में बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रिक वाहन पेश करने के लिये समय और समुचित दीर्घकालीन नियमन की जरूरत होगी। यह टिप्पणी इस रिपोर्ट के बीच आयी है कि भारत सरकार मोबाइल एप के जरिये टैक्सी बुकिंग सेवा देने वाली कंपनियों के लिये 2026 तक अपने बड़े में कम से कम 40 प्रतिशत बिजली चालित वाहन जोड़ना अनिवार्य करने की योजना लागू करने वाली है। कंपनी भारत में अपनी पूर्ण अनुषंगी हुंदै मोटर इंडिया लि. (एचएमआईएल) के जरिये काम कर रही है।
उसने यह भी कहा कि वह अपनी प्रीमियम इलेक्ट्रिक कार कोना अगले महीने पेश करने की तैयारी में है। इसे स्थानीय रूप से चेन्नई कारखाने में एसेम्बल किया जाएगा। यहां संवाददाताओं से बातचीत में एचएमआईएल के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी एस एस किम ने कहा कि कंपनी को अभी आधिकारिक रूप से भारत से ओला और उबर जैसी एप के जरिये टैक्सी बुकिंग सेवा देने वाली कंपनियों के लिये इलेक्ट्रिक वाहन की जरूरतों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।
अगर ऐसी चीजें होती हैं तो यह समय के संदर्भ में काफी जल्दबाजी होगी। उन्होंने कहा कि इसकी तैयारी के लिए और समय चाहिए। किम ने आगे कहा कि वाहनों के बेड़ों को इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने को लेकर रूपरेखा को लेकर और स्पष्टता की आवश्यकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here