THOUGHTS

0
29

जो लोंग मन को नियंत्रित नहीं करते। उनके लिए मन शत्रु के समान कार्य करता है।  श्रीमद्भगवद्गीता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here