सेंसेक्स, निफ्टी में गिरावट, यस बैंक का शेयर लुढ़का

0
56
Sensex,Nifty,Fall

मुंबई,(वेबवार्ता)। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बीएसई सेंसेक्स तथा नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी-50 मंगलवार को मामूली गिरावट के साथ बंद हुए। निजी क्षेत्र के यस बैंक की अगुवाई में बाजार में यह गिरावट रही। हालांकि एचडीएफसी बैंक तथा एचडीएफसी एवं आईटी कंपनियों के शेयरों में तेजी से बाजार में गिरावट पर अंकुश लगा। बीएसई सेंसेक्स 35.78 अंक यानी 0.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 39, 031.55 अंक जबकि एनएसई निफ्टी 6.50 अंक यानी 0.06 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 11, 748.15 अंक पर बंद हुए। तीन दिन के अवकाश के बाद मंगलवार को घरेलू शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव देखा गया। मुंबई में मतदान के कारण सोमवार को शेयर बाजार बंद थे। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स गिरावट के साथ 39, 056.92 अंक पर खुला और एक समय 38, 753.46 अंक तक चला गया। कारोबार के दौरान यह उच्च स्तर पर 39, 105.88 अंक तक चला गया था। पूरे कारोबार के दौरान इसमें 352 अंक से अधिक का उतार-चढ़ाव आया। इसी प्रकार, नेशनल स्टाक एक्सचेंज निफ्टी की भी शुरूआत कमजोर रही और कारोबार के दौरान 11, 655.90 के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया। वहीं एक समय यह उच्च स्तर 11, 756.25 के स्तर पर पहुंच गया है। यस बैंक को मार्च तिमाही में नुकसान तथा रिलायंस एडीएजी की दो वित्त कंपनियों की साख को कम किये जाने से बैंक तथा वित्त कंपनी के शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी। फंसे कर्ज के एवज में प्रावधान बढ़ाये जाने से यस बैंक को मार्च तिमाही में 1, 506 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। इससे इसका शेयर मंगलवार को 30 प्रतिशत टूट गया। आवास वित्त कंपनियों के शेयरों में बिकवाली दबाव देखा गया। इंडिया बुल्स हाउसिंग फाइनेंस तथा पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 6 प्रतिशत तक नीचे रहे। यस बैंक के अलावा नुकसान में रहने वाले सेंसेक्स के अन्य शेयरों में इंडसइंड बैंक, हीरो मोटो कार्प, मारुति सुजुकी, पावरग्रिड तथा महिंद्रा एंड महिंद्रा शामिल हैं। इसमें 5.21 प्रतिशत तक की गिरावट रही। वहीं दूसरी तरफ एचसीएल टेक, टाटा स्टील, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस तथा एचडीएफसी सर्वाधिक लाभ में रहे। इससे सेंसेक्स में ज्यादा गिरावट नहीं आयी। सेंसेक्स के तीस शेयरों में 15 नुकसान में जबकि अन्य में तेजी रही। शेयरखान बाई बीएनपी परिबा के प्रमुख (परामर्श) हेमंग जानी ने कहा, कुछ कंपनियों के चौथी तिमाही के परिणाम नरम रहने से घरेलू बाजार में उतार-चढ़ाव बने रहने की संभावना है। इसके अलावा आम चुनाव के परिणाम (23 मई) को लेकर भी कुछ घबराहट है। लंबे समय तक निवेश करने वालों को बेहतर शेयरों को खरीदना चाहिए जहां मूल्य युक्तिसंगत बना हुआ है तथा भविष्य में कमाई में वृद्धि दिख रही हो। महाराष्ट्र दिवस के मौके पर घरेलू बाजार बुधवार को बंद रहेंगे। एशिया के अन्य बाजारों में ज्यादातर में गिरावट का रुख रहा। इसका कारण चीनी विनिर्माण गतिविधियों का नरम होना तथा अमेरिका-चीन के बीच बातचीत को लेकर नई गतिविधियां हैं। यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरूआती कारोबार में मिला-जुला रुख रहा। अमेरिकी केंद्रीय बैंक की फेडरल खुली बाजार समिति की बुधवार को नीतिगत निर्णय से पहले निवेशक भी सतर्क नजर आये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here