देश के दिल पर कौन करेगा राज- लेखी, गोयल या माकन बनेगें हकदार

0
133

नई दिल्ली || देशभर में देशवासी सत्रहवीं लोकसभा के लिए 543 सीटों से अपना-अपना सांसद चुन रही है।  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के सात संसदीय क्षेत्रों में से एक नई दिल्ली लोकसभा सीट देश के सबसे प्रतिष्ठित निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। वैसे तो दिल्ली की सातों संसदीय सीटें देश की राजनीति में खास अहमियत रखती हैं, लेकिन दिल्ली की सबसे पुरानी सीट यानी नई दिल्ली, हमेशा से उन हॉट सीटों में शामिल रही है, जो केंद्रीय राजनीति की दिशा तय करने के साथ-साथ उन राजनेताओं की साख से भी जुड़ी है, जो यहां से अपनी किस्मत आजमाने मैदान में उतरते रहे हैं। देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और बीजेपी के पूर्व उपप्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी जैसे दिग्‍गज राजनीतिक नेताओं के अलावा जगमोहन जैसे बड़े नेता नई दिल्ली सीट से सांसद रहे हैं। इस सीट से बीजेपी की मीनाक्षी लेखी ने 2014 में जनता का समर्थन प्राप्त किया था, इस बार भी बीजेपी ने मीनाक्षी लेखी को ही अपना प्रत्याशी घोषित किया है। आम आदमी पार्टी ने इस संसदीय क्षेत्र से बृजेश गोयल के नाम की घोषणा की है। वहीं कांग्रेस की ओर से इस सीट से अनुभवी और बेदाग उम्मीदवार, पूर्व दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष अजय माकन को क्षेत्र का प्रत्याशी घोषित किया है। बता दें कि इस संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत 10 विधानसभा क्षेत्र आते हैं, जिनमें करोलबाग, राजिंदर नगर, मालवीय नगर, पटेल नगर, नई दिल्‍ली, आरकेपुरम, मोती नगर, कस्‍तूरबा नगर, ग्रेटर कैलाश और दिल्‍ली कैंट शामिल हैं।

बीजेपी ने जहाँ मीनाक्षी लेखी के प्रचार-प्रसार में पूरी ताकत झोकने के साथ ही उनके कार्यकाल में किए विकास और सांसद निधि का ब्यौरा दे रहे है। वहीं कांग्रेस प्रत्याशी माकन जनता के बीच अपने कार्यकाल में किए गए विकास का ब्यौरा और मौजूदा सरकार में व्यापारियों के साथ हुए बर्ताव का जिक्र कर जनता के साथ हुए धोखे का आंकलन करवा कर जनता को अपने मुद्दों की ओर आकर्षित कर रहे है। वहीं दिलीप पांडे केवल राज्य को पूर्ण दर्जा दिलाने के नाम पर जनता का समर्थन प्राप्त करने की बात कह रहे है। वहीं अगर लेखी के कार्य की बात की जाए तो  जनवरी 2019 तक mplads.gov.in पर मौजूद आंकड़ों के मुताबिक, बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने अभी तक अपने सांसद निधि से क्षेत्र के विकास के लिए 21.58 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। उन्हें सांसद निधि से अभी तक 26.48 करोड़ (ब्याज के साथ) मिले हैं। इनमें से 5.10 करोड़ रुपये अभी खर्च नहीं किए गए हैं। उन्होंने जारी किए जा चुके रुपयों में से 121.87 फीसदी खर्च किया है।  

दिल्ली में व्यापारियों की दशा को भांपते हुए उसे जनता की नब्ज़ पर प्रहार करते हुए माकन ने कहा कि हौज खास का यह मार्किट 2006 में  उनके केंद्रीय शहरी विकास मंत्री के रहते बसाया गया था। तब इसे सील होने से हमने बचाया था। मास्टर प्लान में संसोधन कर जिन तीन हजार सड़कों को बचाया गया उनमे एक सड़क ये भी था। सुप्रीम कोर्ट और मोनिटिरिंग कमिटी के निर्णय के बावजूद हमने जनता को सुविधा देने के लिए और उनकी सीलिंग रोकने के लिए 12 मई से 19  मई के बीच एक हफ्ते में सीलिंग पर लोक सभा और राज्य सभा में विधेयक पास कर राष्ट्रपति से कानून पास कर सीलिंग को ठन्डे बस्ते में डाला था। जनता को संबोधित करते हुए अजय माकन ने कहा कि मोदी सरकार ने मानवाधिकार का खुलेआम उल्लंघन किया है। व्यापारिओं पर मायापुरी में लाठी चार्ज किया गया। राइफल के बट से मारा गया। जो व्यापारी मेहनत कर परिवार का पालन पोषण करते हैं। उनके ऊपर राजधानी में नरेंद्र मोदी के सामने ऐसी हालत करना दुखद है।  इसका बदला 23  मई के बाद 24 मई को यही लिया जाएगा। आप कांग्रेस को वोट दो, हम 20 घंटे में सीलिंग बंद कर आपको दिखाएंगे। कुल मिलाकर यहाँ भी कांग्रेस और भाजपा के बीच जबरदस्त मुकाबला देखने को मिलेगा। देखना दिलचस्प होगा जनता किसका समर्थन करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here