fbpx
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Anant Chaturdashi Fasting and Story 12 September 2019
Anant Chaturdashi Fasting and Story 12 September 2019
Aatma Parmatma Breaking News

अनन्त चतुर्दशी (व्रत एवं कथा विधान ) 12 सितंबर 2019

भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को यह शुभ योग उपस्थित होता है । इसमें उदय व्यापिनी तिथि अर्थात सूर्योदय समय की तिथि ली जाती है और यदि इसमें पूर्णिमा का संयोग भी हो जाये तो अति उत्तम ।

व्रत विधि :–

इस दिन अलोना ( नमक रहित ) व्रत किया जाता है । व्रती पके हुए अन्न का नैवेद्य लेकर किसी पवित्र सरोवर या नदी तट पर जाए भूमि को गोबर से लीप कर ,उस पर कलश स्थापित करे ( अथवा जैसे सम्भव हो घर मे ही कलश स्थापित करे) तदन्तर उसकी पूजा करे । फिर कलश पर शेषशायी भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित करे और मूर्ति के पास चौदह ग्रन्थि युक्त ( चौदह गाँठों वाला) पीला डोरा रक्खे । इसके बाद ” ॐ अनन्ताय नमः” इस नाम मंत्र से उस सूत्र या डोरे का षोडशोपचार या यथासंभव पूजन करे , उसके बाद उस अनन्त को पुरुष अपनी दाहिनी भुजा और स्त्री अपनी बाहिनी भुजा में धारण करे।

इसके बाद ब्राह्मण को नैवेद्य और दक्षिणा दे विदा करें ।

पूजा के बाद इसका कथा श्रवण करें , जो इस प्रकार है ।

  • प्राचीन समय मे सुमन्तु नाम के वशिष्ठ गोत्र के ऋषि थे । उनकी बेटी का नाम शीला था , पुत्री नाम अनुसार ही सुंदर और सुशील थी। सुमन्तु जी ने उसका विवाह कौण्डिन्य मुनि से कर दिया ।
  • शीला ने भाद्रपद मास की इसी तिथि को भगवान विष्णु का व्रत किया और अनन्त को अपनी भुजा पर धारण कर लिया । भगवान की कृपा से उसका जीवन सुख-समृद्धि से भर उठा ।
  • दुर्भाग्य से एक दिन कौण्डिन्य मुनि ने क्रोध में उनके हाथ का वह अनन्त सूत्र तोड़ डाला और आग में फेंक दिया । इसके बाद उनकी सब सुख-समृद्धि नष्ट हो गयी । और वह गरीबी का जीवन जीने लगे । इस सबसे दुःखित हो कौण्डिन्य मुनि वन में चले गए और सिद्ध -,संतों से अनन्त भगवान के विषय में पूछने लगे , तब भगवान विष्णु के करुणा कर वृद्ध ब्राह्मण के रूप में प्रकट हो अनन्त व्रत करने को कहा । और उस व्रत के करने के पश्चात पुनः उनके किवन में सुख-सामर्थ्य लौट आया ।

भगवान विष्णु के इस अनन्त व्रत और अनन्त सूत्र को धारण करने वाले के सभी दारिद्र्य नष्ट हो सुख की प्राप्ति होती है ।

आचार्य भारत भूषण गौड़

Related posts