fbpx
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar

Category : Entertainment and Cinema

Breaking News Entertainment and Cinema

चुनाव की चौपदी

National Thoughts
 फिर चुनाव की चहल-पहल है, बनता नित्य नया एक दल है । चौराहे पर चिंतित जनता, किधर बढ़े चहु दिसि दलदल है।  अपने से निजी...
Breaking News Entertainment and Cinema

गम के थपेड़े खा – खा कर : शशि भूषण सिंह

गम के थपेड़े खा – खा कर, मैं भूल गया, मैं कौन हूँ। बस सपने ही तो अपने थे, वे सपने भी अब टूट गये।...
Breaking News Entertainment and Cinema National

फिल्म गुंजन सक्सेना के ऊपर बढ़ा विवाद, महिला आयोग ने की स्क्रीनिंग पर रोक की मांग

जान्हवी कपूर की फिल्म गुंजन सक्सेना लगातार विवादों में है। भारतीय वायुसेना की तरफ से फिल्म को लेकर आपत्ति जताई जा चुकी है। वायुसेना ने...
Breaking News Entertainment and Cinema

National Thoughts Special :- गुरू पूर्णिमा पर समर्पित एक गीत

National Thoughts
गुरू पूर्णिमा के अवसर पर सभी गुरुओं समर्पित एक गीत गीत आन गुरू जी शान गुरू जी। शिष्यों के पहचान गुरू जी।। जग में मेरा...
Breaking News Entertainment and Cinema

National Thoughts Special :- धरती अब रसातल जाएगी (कविता )

National Thoughts
धरती अब रसातल जाएगी हे अंबर के देव सब, धरती पर ज्वाला धधक रही । शीतलता विखरो भू पर अब, विफलता अब व्याप्त रही ।...
Breaking News Entertainment and Cinema Gaagar Mein Sagar गागर में सागर

गागर में सागर

National Thoughts
सृष्टि में सबसे उत्तम जन्म मानव का माना गया है |  दो कारणों से-एक तो ये  मोक्ष-मुक्ति का साधन है  दूसरा मानव ही सब पशु-पक्षी...
Breaking News Entertainment and Cinema

एक किसान (कविता) :- हरेन्द्र प्रसाद यादव “फ़क़ीर”

प्रस्तुत है एक कवि के अंतरमन मे बसे एक किसान के दर्द को ब्यान करती एक छंदमुक्त कविता। आपको लगे की इस कविता ने आपके...
Breaking News Entertainment and Cinema

Alt Balaji and Zee5 Web Series ‘कहने को हमसफ़र है’ की स्टारकास्ट के साथ लॉकडाउन नही करेगा बोर

घोषणा की बाद से ही, दर्शक ‘कहने को हमसफ़र है’ के तीसरे सीजन का बेसब्री से इंतजार कर रहे है। पिछले सीज़न से रिलेशनशिप सीरीज़...
Breaking News Entertainment and Cinema

पिता की छत्रछाया :- हरेन्द्र प्रसाद यादव “फ़कीर”

National Thoughts
पिता भगवान की ऐसी नेमत है जिसके छत्रछाया में हम सब पल-बढ़ कर कुछ बनने का सपना देखते हैं, पिता हम सब की आन बाण...