पिछले कुछ दिनों से चल रहे योग गु" />
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Dispute between Baba Ramdev and IMA, Swami Ramdev accuses private hospitals
Breaking News National

बाबा रामदेव और IMA के बीच विवाद जारी, स्वामी रामदेव ने लगाया निजी अस्पतालों पर आरोप

पिछले कुछ दिनों से चल रहे योग गुरु बाबा रामदेव और IMA के डॉक्टरों के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है| बाबा रामदेव द्वारा एलोपैथिक इलाज को लोगों के लिए घातक बताया गया था, जिसके बाद से यह विवाद शुरू हुआ| बाबा रामदेव द्वारा इसके बाद डॉक्टर्स और फार्मा कंपनियों से कुछ 25 सवाल पूछे गए थे| इसके बाद कुछ डॉक्टर द्वारा उनकी मानसिक स्थिति बिगड़ने तक की बात कह दी गई|
आज फिर बाबा रामदेव द्वारा निजी अस्पतालों पर आरोप लगाया गया है| उन्होंने आरोप लगाया कि देश के नामचीन अस्पतालों ने कोरोनावायरस संक्रमण के इलाज के नाम पर लूट मचाई है। इलाज में उपयोग इंजेक्शन सर स्टेरॉयड देखकर मरीजों की इम्युनिटी को कमजोर बना रहे हैं | जिससे कि मरीज ब्लैक और वाइट फंगस जैसी बीमारियों का शिकार बन रहे हैं | लोगों की इन एंटीबायोटिक द्वारा शरीर की इम्युनिटी कमजोर की जा रही है, उन्हें तब पता नहीं चलता है और वह स्वस्थ महसूस करते हैं पर कुछ समय बाद उनके सामने और समस्याएं खड़ी हो जाती हैं |
उन्होंने आगे बताया है कि 90 फीसदी कोरोना मरीज योग और आयुर्वेद नेचुरोपैथी से ठीक हो रहे हैं, लेकिन दस फीसदी लोग अस्पताल भाग रहे हैं। उनको लगता है डॉक्टर उनको बचा लेंगे। अस्पताल से वापस दो या पांच कितने आए, भगवान ही मालिक है।
देश के चार नामचीन बड़े अस्पतालों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मरीज को पांच हजार रुपये से एक लाख रुपये तक का कमरा दे रहे हैं। डॉक्टर विजिट फीस, दवा और खाने का अलग से है। इसके बाद भी मरीज मर रहे हैं। उन्होंने इसके बाद बताया कि एंटीबायोटिक के उपयोग के कारण सालाना एक करोड़ लोगों की मौत होती है| हमारे शरीर में ही बीमारियों का इलाज छिपा है। उन्होंने कहा कि बुखार के लिए दवा की जरूरत ही नहीं है। अस्पतालों में शरीर का तापमान कम करने के दिए दवा देते हैं न कि बुखार किस वजह से आ रहा है उसका इलाज करते हैं।
इसके बाद IMA उत्तराखंड के डॉक्टर खन्ना ने बताया कि उन्होंने बाबा रामदेव को पत्र लिखा है कि कोरोना की तीसरी लहर में वे पूरे हेल्थ सिस्टम को संभालें। आयुर्वेद और योग के जरिये मरीजों का उपचार किया जाए। हम स्वास्थ्य विभाग को भी लिख रहे हैं कि बाबा से लोगों का उपचार करवाया जाए। हम भी उनका सहयोग करेंगे। इसी के साथ दोनों ही पक्षों में बयानबाजी का दौर जारी है|

Related posts

Leave a Comment