फिर चुनाव की चहल-पहल है" />
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Election square
Breaking News Entertainment and Cinema

चुनाव की चौपदी

 फिर चुनाव की चहल-पहल है,
बनता नित्य नया एक दल है ।
चौराहे पर चिंतित जनता,
किधर बढ़े चहु दिसि दलदल है।

 अपने से निजी पीठ ठोकता,
एक दूसरे को गलियाता।
राजनीति के रंगमंच पर,
नाच रहे नेता अभिनेता ।

 लगती तनिक न लाज देखिये,
मांग रहे निज ताज देखिये।
राजनीति के महफिल में फिर,
दल बल का नाच देखिये।

बिन बादल बरसात देखिये,
विधुरो का बारात देखिये।
पटने दिल्ली के सड़कों पर,
होती जूतम लात देखिये।

स्वर्गीय सर्वजीत सिंह अकेला

Related posts