उत्तर प" />
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Farmers cultivating black potatoes in India
Breaking News National

अब भारत मे भी होने लगी है काले आलू की खेती

 

उत्तर प्रदेश के बलिया के एक युवा किसान ने काले आलू की खेती कर नई उम्मीदें जगा दी है। जी हां, यहां सोहांव विकास खण्ड के दौलतपुर गांव के किसान संतोष सिंह ने एमए, बीएड करने के बाद खेती को चुना तो घर-परिवार के अलावा अन्य लोग भी चौंक पड़े। पिता का साया सिर से असमय उठ जाने से शुरू में बहुत सी मुसीबतों ने घेरा लेकिन संतोष सिंह अपने इरादों से डिगे नहीं। शुरुआत में परंपरागत खेती से उन्होंने अपनी शुरूआत की। परम्परागत खेती से परिवार चलाना मुश्किल हो गया तो उसमें नवाचार का सहारा लिया।
 
 
दो वर्ष पहले इंटरनेट के जरिए काला धान की जानकारी हुई तो एक एकड़ में उसकी खेती की। अच्छी आमदनी हुई तो संतोष के हौसलों ने उड़ान भरी। इस बार उन्होंने प्रयोग के तौर पर काला गेहूं, काला चना और काले आलू की खेती की है। काला तैयार हुआ तो उसे खेतों से निकलवा लिया है। प्रति दो कट्ठे में तीन कुंतल के हिसाब से आलू निकला तो संतोष की खुशी का ठिकाना नहीं है।
संतोष सिंह का कहना है कि काला आलू की पैदावार सामान्य लाल या सफेद आलू से अच्छी हुई है। अगले सीजन से व्यापक पैमाने पर इसकी खेती करूंगा। संतोष बताते हैं कि मेरे खेतों में काला गेहूं और काले चने की पैदावार भी अच्छी दिख रही है। फसल पकने के बाद कटेगी तो उसका मूल्यांकन किया जाएगा, यदि पैदावार औसत से अधिक हुई तो काले रंग से ही अपने जीवन में उजाला लाने का प्रयास करूंगा।
 
संतोष सिंह ने बताया कि जब मैंने जाना कि काले आलू में सेहत का खजाना छिपा हुआ है तो इसकी खेती की ओर अग्रसर हुआ। कहा कि इसमें वसा नहीं होता है। बल्कि यह रक्त की कमी को पूरा करके शरीर में मोटापा कम करता है। इस आलू में 40 प्रतिशत तक आयरन रहता है। इसमें बिटामिन बी-6 और फ्लोरिक एसिड भी मिलता है। इसके अलावा काला आलू हीमोग्लोबिन बढ़ाने का काम करता है।

Related posts