fbpx
National Thoughts
Lamba, an international sportsman and secretary, has clarified the policy of NSUI
Breaking News National

अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और सचिव पद के दांवेदार लांबा ने साफ की एनएसयूआई की नीति

नई दिल्ली || Delhi University में छात्रसंघ चुनाव के लिए प्रचार प्रसार अंतिम चरण में है। एनएसयूआई हो या एबीवीपी या फिर आइशा कोई भी छात्र संघ अपने प्रचार-प्रसार में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहता। बता दें कि एनएसयूआई ने अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी आशीष लांबा को सचिव पद के लिए उम्मीदवार बनाया है। अतंरराष्ट्रीय खिलाड़ी लांबा ने कहा कि वन कोर्स वन फीस, यू स्पेशल बस, हॉस्टल सुविधा जैसे कई सारे मुद्दों सालों से बरकरार है जिनका आज तक समाधान नहीं हो सका है। एनएसयूआई और विशेषकर उनके लिए छात्रों की समस्या का समाधान ही प्राथमिकता होगी।

सचिव पद के उम्मीदवार आशीष लांबा ने कहा कि विश्वविद्यालय में स्पोर्ट्स की सही सुविधा नहीं मिल रही है। जिम है लेकिन सही से देखभाल नहीं होने के कारण उसकी स्थिति आज जर्जर बनी हुई  है। विश्वविद्यालय में खेल, ड्रैमेटिक और अन्य सोसाइटी को दुरुस्त करना सबसे पहला काम होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर एनएसयूआई के नेतृत्व में डूसू का गठन होता है तो स्पोर्ट्स कैटेगरी के तहत होने वाले एडमिशन में खेलों की संख्या बढ़ाने की मांग होगी जिससे कि दूसरे खेलों के खिलाड़ी भी विश्वविद्यालय में एडमिशन ले कर अपनी पढ़ाई जारी रख सकें।

जाहिर है सचिव पद की नीतियाँ अगर इतनी आकर्षक है तो एनएसयूआई संघ ने इससे भी बड़े-बड़े वायदों और आश्वासन का पिटारा छात्रों को सौगात में देगी।  अपने तमाम वायदों के बीच एनएसयूआई के नेतृत्व में डूसू का गठन होगा तो वह दिव्यांग छात्रों की सुविधाओं के लिए संघर्ष करेंगे। वहीं उन्होंने कहा कि एनएसयूआई एकमात्र ऐसा संगठन है जो मेट्रो के बढ़े हुए किराए के विरोध में मेट्रो के आगे कूद गया था। उन्होंने कहा कि एनएसयूआई के नेतृत्व में बनने वाली डूसू छात्रों को मेट्रो में रियायत दिलाने के लिए भी संघर्ष करेगी।

 

Related posts

Leave a Comment