National Thoughts
Learn everything auspicious and inauspicious on Mouni Amavasya
Learn everything auspicious and inauspicious on Mouni Amavasya
Breaking News RELIGION

मौनी अमावस्या पर जानें शुभ-अशुभ सब कुछ

आज माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या यानि मौनी अमावस्या है। इस दिन मौन रखकर संयमपूर्वक व्रत किया जाता है। वैसे तो हिंदू धर्म में स्नान, दान और ध्यान का बड़ा महत्व होता है। खासतौर पर मौनी अमावस्या पर ध्यान लगाना और भी ज्यादा फलदायी होता है। इस पवित्र मौके पर नदियों में आस्था की डुबकी लगाने वाले का कल्याण होता है। मौन व्रत को लेकर यह भी कहा जाता है कि होठों से प्रभु के नाम का जाप करने पर जितना पुण्य प्राप्त होता है, उससे कई गुणा ज्यादा पुण्य मन में हरि नाम का जप करने से प्राप्त होता है।

धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार मौनी अमावस्या के दौरान बुरी आत्माओं का प्रभाव काफी ज्यादा बढ़ जाता है। ये आत्माएं इंसान की हंसती-खेलती जिंदगी को तबाह कर सकती हैं। मौनी अमावस्या पर कोशिश करें कि कब्रिस्तान या श्मशान घाट के नजदीक से होकर न गुजरना पड़े। मौनी अमावस्या के दिन सूर्योदय होने के बाद तक सोते रहना अशुभ माना जाता है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करना शुभ माना जाता है। स्नान और पूजा के बाद ही कुछ खाना चाहिए।

मौनी अमावस्या के दिन सूर्योदय होने के बाद तक सोते रहना अशुभ माना जाता है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करना शुभ माना जाता है। स्नान और पूजा के बाद ही कुछ खाना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन सूर्योदय होने के बाद तक सोते रहना अशुभ माना जाता है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करना शुभ माना जाता है। स्नान और पूजा के बाद ही कुछ खाना चाहिए।

धार्मिक मान्यता है कि इस दिन  गंगा का जल अमृत की तरह हो जाता है। इस दिन प्रात: स्नान करने के बाद भगवान विष्णु और भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए। श्री हरि को पाने का सुगम मार्ग है माघ मास में सूर्योदय से पूर्व किया गया स्नान। इसमें भी मौनी अमावस्या को किया गया गंगा स्नान काफी पुण्य प्रदान करता है।

Related posts