fbpx
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Millions of people will be snatched away
Breaking News National

करोड़ों लोगों की छिन जाएगी रोजी-रोटी : रघुराम राजन

  • निम्न और मध्यम वर्ग के सामने सबसे बड़ा संकट
  • करोड़ों लोगों की छिन जाएगी रोजी-रोटी: रघुराम राजन ने जताई चिंता 
    नई दिल्ली :- कोरोना से निपटने के लिए लागू किए गए लाक डाउन का सबसे ज्यादा विपरीत असर देश के निम्न और मध्यम वर्ग के लोगों पर पड़ेगा। इसकी वजह से करोड़ों लोगों के सामने रोजी-रोटी कमाने का संकट पैदा हो गया है। इससे उबारने के लिए केंद्र सरकार को तुरंत पैंसठ हजार करोड़ रुपए की व्यवस्था करनी होगी। यह कहना है भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का।

उन्होंने यह बातें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ लाक डाउन की वजह से देश की अर्थव्यवस्था पर दूसरे मुद्दों पर चर्चा करने के दौरान कही। राहुल गांधी इन दिनों विभिन्न पहलुओं पर विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श कर रहे हैं और उसके आधार पर मोदी सरकार को रचनात्मक सुझाव दे रहे हैं।

इसी कड़ी में उन्होंने भारतीय रिजर्व बैंक के साल 2013 से 2016 के दौरान गवर्नर रहे रघुराम राजन के साथ बातचीत की थी।
रघुराम राजन ने राहुल गांधी को बताया कि आने वाले समय में अच्छी नौकरियों की संख्या बहुत सीमित रह सकती है। इतना ही दस करोड़ से भी ज्यादा लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़े सकता है।

उन्होंने कहा कि सरकार के लिए सबके लिए समान अवसर मुहैया कराना आसान नहीं होगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि लाक डाउन दुबारा लागू करने से यह साबित होता है कि इसका पहला चरण सफल नहीं र हा था। अब अगर इसे और आगे बढ़ाया गया तो सरकार को सभी तरह के उपाय करने होंगे।

रघुराम राजन ने अर्थव्यवस्था को खोलने के साथ ही इसके संबंध में सभी आवश्यक टेस्ट करने पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि दूसरे देशों की तुलना में हमारी क्षमता और आर्थिक संसाधन सीमित हैं। इसलिए हम स्थिति से निपटने के लिए उनका अनुसरण नहीं कर सकते। वैसे भी हमारे यहां आय का वितरण भी काफी असमान है।

Related posts