#सरकार की बात #फिजूल की बात #होते जो हम सरकार #Real Heroes #जनता की बात #काम की बात #BUSINESS/MSME की बात

Breaking News:
   कलाकार तिवारी और दिग्गज़ शीला के बीच होगा जबरदस्त मुकाबला  ||   कांग्रेस ने जारी की तीन सीटों पर उम्मीदवारों की लिस्ट  ||   लाखों डेरा अनुयायी करेगें राजनेताओं को विचलित  ||   बम विस्फोट- मृतकों की संख्या 290 के पार  ||   ट्रांसलेटर की वजह से राहुल गांधी की जमकर उड़ी खिल्ली  ||   इस्तीफे के बाद शिवसेना की हुई प्रियंका  ||   जिस्म नाजुक है आबगीनों से खारज़ारों के उन मकीनों से - फख़रूद्दीन अशरफ  ||   कांग्रेस जनविरोधी और राष्ट्र विरोधी है- माननीय इंद्रेश कुमार  ||   महिला खिलाडी का शून्य से शिखर तक का सफर  ||   दिल्ली की यमुना की लहरों पर शुरू हुई 29वीं राष्ट्रीय सीनियर कैनो एसप्रिंट प्रतियोगिता  ||   स्वाइन फ्लू से कैसे करें बचाव  ||   बवाना में कैंडल मार्च निकालकर दी गई शहीदों को श्रद्धांजलि   ||

स्वाइन फ्लू से कैसे करें बचाव

21वीं सदी में दुनिया भर में तेजी से फैलने के बाद अब भारत के दरवाजे पर अपनी भयावह दस्तक दे रहा है और कई राज्यों में अपने पैर पसार चुका है।  स्वाइन फ्लू या H1N1 इन्फ्लूएंजा के बारे में अगर जागरूकता उत्पन्न नहीं की गई तो धीरे-धीरे यह महामारी का रूप धारण कर सकता है, इसलिए ज़रूरी है सी बीमारी से बचाव और लक्षण के बारे में जागरूक होना।

स्वाइन फ्लू क्या है? 

H1N1 इन्फ्ल्यूएंजा या स्वाइन फ्लू दरअसल चार वायरस के संयोजन के कारण होता है। आम तौर पर इस वायरस के वाहक सूअर होते हैं। यही वजह है कि मीडिया ने इसे स्वाइन फ्लू यानी कि 'सुअर फ्लू' का नाम दे डाला। अब तक यह जानवरों के लिए घातक नहीं था और न ही कभी इसने इंसानों को प्रभावित किया था। लेकिन जब से इस विषाणु का उत्परिवर्तन हुआ है, इस फ्लू ने महामारी के रूप धारण कर लिया है, क्योंकि यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैल रहा है। जोखिम का विषय यह है कि एक नया वायरस स्ट्रीम बन जाने के कारण कोई भी इससे अप्रभावित नहीं है। लिहाजा प्रत्येक व्यक्ति इस संक्रमण के प्रति संवेदनशील है।


लक्षण :- हालांकि इसके लक्षण एक सामान्य फ्लू के समान हैं, मगर लापरवाही बरतने पर वे गंभीर हो सकते हैं। आम तौर पर इन लक्षणों के प्रति सचेत रहने की जरूरत है।

* बुखार 

* खाँसी 

* सिरदर्द

* कमजोरी और थकान 

* मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द 

* गले में ख़राश 

* नाक बहना

बचाव :- खांसी अथवा छींक के समय अपने चेहरे को टिश्यू पेपर से ढककर रखें। टिश्यू पेपर को सही तरीके से फेंके अथवा नष्ट कर दें। अपने हाथों को किसी हैंड सैनीटाइजर द्वारा नियमित साफ करें। अपने आसपास हमेशा सफाई रखें। चेहरे पर मास्क को बचाव का एक तरीका माना जा रहा है, मगर वास्तव में यह कितना प्रभावी है इस बारे में किसी रिसर्च के जरिए कोई पक्के नतीजे सामने नहीं आए हैं।

वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन फॉर एनिमल हैल्थ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यह वायरस अब केवल सूअरों तक सीमित नहीं है, इसने इंसानों के बीच फैलने की कुवत हासिल कर ली है। एन्फ्लूएंजा वायरस की खासियत यह है कि यह लगातार अपना स्वरूप बदलता रहता है। इसकी वजह से यह उन एंटीबॉडीज को भी छका देता है जो पहली बार हुए एन्फ्लूएंजा के दौरान विकसित हुई थीं। यही वजह है कि एन्फ्लूएंजा के वैक्सीन का भी इस वायरस पर असर नहीं होता।

0 Comments So Far on this Post

Post Comment

Relevant Posts :



#NATIONALNEWS
कांग्रेस ने जारी की तीन सीटों पर उम्म...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने एक रन से ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
भारत और चीन को ईरान से कच्चे तेल खरीद...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
राष्ट्र की सुरक्षा के लिए भाजपा संकल्...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
सुप्रीम कोर्ट अवमानना मामले में राहुल...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
लाखों डेरा अनुयायी करेगें राजनेताओं क...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
निर्वाचन आयोग ने मोदी पर बनी बायोपिक ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
सेंसेक्स 285 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 99 ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
कुर्सी रहे या जाये, या तो मै रहूंगा य...

Dated :Apr 22, 2019