#सरकार की बात #फिजूल की बात #होते जो हम सरकार #Real Heroes #जनता की बात #काम की बात #BUSINESS/MSME की बात

Breaking News:
   कलाकार तिवारी और दिग्गज़ शीला के बीच होगा जबरदस्त मुकाबला  ||   कांग्रेस ने जारी की तीन सीटों पर उम्मीदवारों की लिस्ट  ||   लाखों डेरा अनुयायी करेगें राजनेताओं को विचलित  ||   बम विस्फोट- मृतकों की संख्या 290 के पार  ||   ट्रांसलेटर की वजह से राहुल गांधी की जमकर उड़ी खिल्ली  ||   इस्तीफे के बाद शिवसेना की हुई प्रियंका  ||   जिस्म नाजुक है आबगीनों से खारज़ारों के उन मकीनों से - फख़रूद्दीन अशरफ  ||   कांग्रेस जनविरोधी और राष्ट्र विरोधी है- माननीय इंद्रेश कुमार  ||   महिला खिलाडी का शून्य से शिखर तक का सफर  ||   दिल्ली की यमुना की लहरों पर शुरू हुई 29वीं राष्ट्रीय सीनियर कैनो एसप्रिंट प्रतियोगिता  ||   स्वाइन फ्लू से कैसे करें बचाव  ||   बवाना में कैंडल मार्च निकालकर दी गई शहीदों को श्रद्धांजलि   ||

सबसे बड़ा गुरू कौन

गुरु द्रोणाचार्य, पाण्डवोँ और कौरवोँ के गुरु थे, उन्हेँ धनुर्विद्या का ज्ञान देते थे।

एक दिन एकलव्य जो कि एक गरीब शुद्र परिवार से थे. द्रोणाचार्य के पास गये और बोले कि गुरुदेव मुझे भी धनुर्विद्या का ज्ञान प्राप्त करना है आपसे अनुरोध है कि मुझे भी अपना  शिष्य बनाकर धनुर्विद्या का ज्ञान प्रदान करेँ

किन्तु द्रोणाचार्य नेँ एकलव्य को अपनी विवशता बतायी और कहा कि वे किसी और गुरु से शिक्षा प्राप्त कर लें। यह सुनकर एकलव्य वहाँ से चले गये।

और जंगल में एक जगह जाकर वह हर रोज तीर कमान से अभ्यास किया करता था एक दिन आ ही गया की एकलव्य और द्रोणाचार्य की मुलाकात एक जंगल में होती है  इस घटना के बहुत दिनों बाद अर्जुन और द्रोणाचार्य शिकार के लिये जंगल की ओर गये। उनके साथ एक कुत्ता भी गया हुआ था। कुत्ता अचानक से दौड़ते हुय एक जगह पर जाकर भौँकनेँ लगा, वह काफी देर तक भोंकता रहा और फिर अचानक ही भौँकना बँद कर दिया। अर्जुन और गुरुदेव को यह कुछ अजीब लगा और वे उस स्थान की और बढ़ गए जहाँ से कुत्ते के भौंकने की आवाज़ आ रही थी।  उन्होनेँ वहाँ जाकर जो देखा वो एक अविश्वसनीय घटना थी। किसी ने कुत्ते को बिना चोट पहुंचाए उसका मुँह तीरोँ के माध्यम से बंद कर दिया था और वह चाह कर भी नहीं भौंक सकता था। ये देखकर द्रोणाचार्य चौँक गये और सोचनेँ लगे कि इतनी कुशलता से तीर चलाने का ज्ञान तो मैनेँ मेरे प्रिय शिष्य अर्जुन को भी नहीं दिया है और न ही ऐसे भेदनेँ वाला ज्ञान मेरे आलावा यहाँ कोई जानता है…. तो फिर ऐसी अविश्वसनीय घटना घटी कैसे

तभी सामनेँ से एकलव्य अपनेँ हाथ मेँ तीर-कमान पकड़े आ रहा था। ये देखकर तो गुरुदेव और भी चौँक गये। द्रोणाचार्य नेँ एकलव्य से पुछा ,” बेटा तुमनेँ ये सब कैसे कर दिखाया।”  तब एकलव्य नेँ कहा , ” गुरूदेव मैनेँ यहाँ आपकी मूर्ती बनाई है और रोज इसकी वंदना करने के पश्चात मैं इसके समकक्ष कड़ा अभ्यास किया करता हूँ और इसी अभ्यास के चलते मैँ आज आपके सामनेँ धनुष पकड़नेँ के लायक बना हूँ।  गुरुदेव ने कहा , ” तुम धन्य हो ! तुम्हारे अभ्यास ने ही तुम्हेँ इतना श्रेष्ट धनुर्धर बनाया है और आज मैँ समझ गया कि अभ्यास ही सबसे बड़ा गुरू है।


0 Comments So Far on this Post

Post Comment

Relevant Posts :



#NATIONALNEWS
कांग्रेस ने जारी की तीन सीटों पर उम्म...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने एक रन से ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
भारत और चीन को ईरान से कच्चे तेल खरीद...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
राष्ट्र की सुरक्षा के लिए भाजपा संकल्...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
सुप्रीम कोर्ट अवमानना मामले में राहुल...

Dated :Apr 22, 2019





#CITYNEWS
लाखों डेरा अनुयायी करेगें राजनेताओं क...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
निर्वाचन आयोग ने मोदी पर बनी बायोपिक ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
सेंसेक्स 285 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 99 ...

Dated :Apr 22, 2019





#NATIONALNEWS
कुर्सी रहे या जाये, या तो मै रहूंगा य...

Dated :Apr 22, 2019