#सरकार की बात #फिजूल की बात #होते जो हम सरकार #Real Heroes #जनता की बात #काम की बात #BUSINESS/MSME की बात

Breaking News:
   महिला सुरक्षा को लेकर 24 फरवरी से पैदल यात्रा निकालेगा महिला आयोग  ||   Building a lasting bond: Factoria Agro & Canny Overseas  ||   ओमप्रकाश चौटाला की रिहाई याचिका पर 3 दिन के अंदर फैसला करे दिल्ली सरकार  ||   भारत के लिए नया लड़ाकू विमान एफ-21 प्रदर्शित  ||   राहुल, प्रियंका से नहीं की जा सकती की मोदी के नेतृत्व तुलना : शिवसेना  ||   कांग्रेस ने प्रिंस क्राउन को गले लगाने पर मोदी पर तीखा वार, कहा शहीदों को याद करने का यह है आपका तरीका   ||   युवाओं को राजनीति में भागीदारी लेने से क्या है फायदा?  ||   काम की बात में जाने संगीत से सफलता की मिसाल   ||   सरकारी योजनाएं कैसे करती है प्रभावित- सरकार की बात  ||   भारत की बेरोज़गारी और फ़िज़ूल की बात  ||   काम की बात में जानें शिक्षा के नए विकल्प के बारें में   ||   काम की बात में जाने शिक्षा के वैकल्पिक रूप के बारे में  ||

कार्य में सफलता कैसे प्राप्त करे

दोस्तों हम सभी जानते है की इस दुनिया में असफल लोगो की संख्या सफल लोगो से ज्यादा है। ऐसा क्या कारण है की लोग ज्यादातर कामो में सफल नहीं हो पाते। इसी बात को अच्छे तरिके से समझाने के लिए मैं आपको एक कहानी  सुनाता हूँ।छात्रों के लिए प्रेरणादायक लघु कथाएँ

 

एक गाँव में बूढी औरत के पास एक बगीचा था और वह उसकी देखभाल करती थी। उसके साथ उसका पौता भी रहता था। कुछ समय बाद वह बूढी औरत इतनी बीमार हो गयी की उसे चलने फिरने में परेशानी होने लगी। उसे अपने बगीचे में लगे पौधों की चिंता सताने लगी।


उसने अपने पौते को अपने पास बुलाया और कहा – क्या तुम मेरे स्वस्थ होने तक बगीचे में लगे पौधों का ख्याल रखोगे। पौते ने दादी से वादा करते हुए कहा – हाँ, मैं पेड़ पौधों का ख्याल रखूँगा।

कुछ समय बाद दादी स्वस्थ हो गयी। वह जब बगीचे में गयी तो उसने देखा की ज्यादातर पौधे सुखकर मर चुके थे। उसने अपने पौते को बुलाया और कहा – तुमने मुझसे वादा किया था की तुम मेरे पौधो का ख्याल रखोगे। लेकिन ये सब तो सुख गए है।

लडके ने मायूस होते हुए कहा – मैं रोज इनकी देखभाल करता था। मैं रोज एक कपड़े से इनकी पत्तियाँ पोछता था और फिर रोटी के टुकड़े इनके सामने रख देता था। इतनी देखभाल करने के बाद भी ये सुख गए।


दादी ने कहा – बेटा पेड़ – पौधे रोटी नहीं खाते। इनकी जड़े धरती से अपना खाना अपने आप ले लेती है। बस हमे तो इनकी जड़ो में पानी डालना होता है। यह सुनकर लड़के ने कुछ देर तह सोचा और फिर पूछा – दादी मनुष्य की जड़े कहा होती है।

उसके सर पर हाथ फेरते हुए दादी ने कहा – मनुष्य की जड़े उसके साहस, हिम्मत और धैर्य में होती है।

दोस्तों इस कहानी  से मैं आपको ये समझाना चाहता हूँ की अगर आपके पास साहस, हिम्मत और धैर्य नहीं है तो आप किसी भी काम में सफल नहीं हो सकते। क्योकि ये मनुष्य की वे जड़े है।  

जिसके ऊपर सफलता का पौधा लगता है। जिस भी इंसान की जड़े जितनी कमजोर होती है। इस पर लगने वाला पौधा भी इतना ही कमजोर होता है। जिस पेड़ को हम जमीन  में जितना गहरा पौधा लगाते हे वह पौधा उतना ही अच्छा अच्छा और उतना ही मजबूत होता है  छात्रों के लिए प्रेरणादायक लघु कथाएँ  कार्य में सफलता कैसे प्राप्त करे

0 Comments So Far on this Post

Post Comment

Relevant Posts :



#NATIONALNEWS
खाद्य तेल बाजार में रचेगें इतिहास फैक...

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
Building a lasting bond: Factoria Agr...

Dated :Feb 21, 2019





#CITYNEWS
ओमप्रकाश चौटाला की रिहाई याचिका पर 3 ...

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
भारत के लिए नया लड़ाकू विमान एफ-21 प्र...

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
राहुल, प्रियंका से नहीं की जा सकती की...

Dated :Feb 21, 2019





#JOKES
jokes

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
भारत-सऊदी अरब का संबंध इतिहास लिखने क...

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
कांग्रेस ने प्रिंस क्राउन को गले लगान...

Dated :Feb 21, 2019





#NATIONALNEWS
शाहजादे मोहम्मद बिन सलमान से मिली विद...

Dated :Feb 21, 2019