fbpx
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
Special coincidence is being made on Karva Chauth after 70 years, know auspicious time
Special coincidence is being made on Karva Chauth after 70 years, know auspicious time
Aatma Parmatma Rashifal RELIGIOUS

70 वर्षों बाद करवा चौथ पर बन रहा है विशेष संयोग, जानें शुभ मुहूर्त

भारतीय संस्कृति के हिन्दू धर्म में पति को परमात्मा मानकर उन्हें पूजा जाता है। पूरे देश में पति-पत्नी के लिए आज का दिन बेहद ही शुभ माना जाता है। हिन्दू धर्म में प्रचलित करवा चौथ दो शब्दों से मिलकर बना है। जिसमें करवा का मतलब मिट्टी के बरतन और चौथ यानि चतुर्थी है। इस दिन मिट्टी के पात्र यानी करवों की पूजा का विशेष महत्व है। पति की लंबी उम्र की कामना के साथ महिलाएं 14 घंटे का निर्जला व्रत (करवा चौथ) रखकर शाम को चंद्रमा निकलने पर अपने पति को देखने और पूजा करने के बाद अन्न जल ग्रहण करेंगी। इस व्रत में चांद को छलनी से देखने का विशेष प्रचलन है।

पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ मनाया जाता है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां पति की दीर्घायु के लिए पानी की एक बूंद को त्याग कर प्रात: काल से लेकर चंद्रमा के उदय होने तक का व्रत रखती है। चंद्रमा के उदय होने के बाद चंद्रमा को अर्घ्य देकर चांद के बाद अपने पति का दर्शन कर उनके चरणों को स्पर्श कर उनका आशीर्वाद लेती है उसके बाद ही जल ग्रहण कर व्रत का परायण करती है। इस बार करवा चौथ पर विशेष संयोग बन रहा है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 70 सालों बाद इस दिन के लिए विशेष संयोग बन रहा है।

करवा चौथ की तिथि और शुभ मुहूर्त :
  • तिथि : 17 अक्टूबर
  • चतुर्थी तिथि प्रारंभ : 17 अक्टूबर की सुबह 6:48 मिनट से
  • चतुर्थी तिथि समाप्त : 18 अक्टूबर को सुबह 7:29 मिनट तक
  • करवा चौथ व्रत का समय : 17 अक्टू. को सुबह 6:27 मिनट से रात 8:16 मिनट तक
  • कुल अवधि : 13 घंटे 50 मिनट
  • पूजा का शुभ मुहूर्त : 17 अक्टू. की शाम 5:46 मिनट से शाम 7:02 मिनट तक
  • कुल अवधि : 1 घंटे 16 मिनट
  • शायं 5.50 से 7.05 बजे तक (करवा चौथ कथा का शुभ मुहूर्त)

Related posts