नई दिल्ली || " />
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
There is no question of a $ 5,000 billion economy in 2025 - former RBI governor
There is no question of a $ 5,000 billion economy in 2025 - former RBI governor
Breaking News National

2025 में 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं-  पूर्व RBI गर्वनर 

नई दिल्ली || दूसरी बार सत्ता में आते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को 5,000 अरब डॉलर बनाने का लक्ष्य रखा था। सरकार बनने के साथ ही कई रिपोर्टस में देश की मौजूदा अर्थव्यवस्था को सुस्ती का शिकार बताया गया तो किसी में मंदी की चपेट में। खबरों को हवा तब और अधिक मिली जब देश की जीडीपी में गिरावट दर्ज की गई। बावजूद इसके केन्द्र सरकार की कमान संभाले भारतीय जनता पार्टी ने भारत की अर्थव्यवस्था को 5000 अरब डॉलर बनाने की बात से मुँह नहीं मोड़ा। प्रधानमंत्री आए दिन देश के भविष्य को लेकर बड़े-बड़े दांवे कर रहे है पर मौजूदा हालात पर कभी कुछ नहीं बोला। देश की मौजूदा स्थिति, बेरोजगार युवाओं और किसानों में बढ़ती नाराज़गी से इंकार नहीं किया जा सकता। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर सी रंगराजन के मुताबिक अर्थवव्यस्था की स्थिति ठीक नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मौजूदा विकास दर से 2025 में 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं है। आर्थिक विकास दर की गति कम हो रही है और वित्तवर्ष 2016 के 8.2 फीसदी के मुकाबले वित्तवर्ष 2019 में विकास दर 6.8 फीसदी रह गई है।
रंगराजन ने कहा, ‘‘आज हमारी अर्थव्यवस्था 2,700 अरब डॉलर है और हम पांच साल में इसे दोगुना कर 5,000 अरब डॉलर करने की बात कर रहे हैं। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए नौ फीसदी सलाना की दर से विकास की जरूरत है। ऐसे में 2025 तक 5,000 करोड़ रुपये की अर्थव्यवस्था बनने का सवाल ही नहीं है।’’ आईबीएस-आईसीएफएआई बिजनेस स्कूल की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रंगराजन ने कहा, ‘‘आप दो साल गंवा चुके हैं। इस साल यह विकास दर छह फीसदी से नीचे रहने वाली है जबकि अगले साल यह करीब सात फीसदी होगी। इसके बाद अर्थव्यवस्था गति पकड़ सकती है।’’ सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 5,000 अरब डॉलर हो गया तो देश में प्रति व्यक्ति आय मौजूदा 1,800 डॉलर से बढ़कर 3,600 डॉलर हो जाएगी। इसके बावजूद देश निम्न मध्यम आय वाले देशों की श्रेणी में ही रहेगा। ‘‘विकसित देश की परिभाषा ऐसे देश से है जिसकी प्रति व्यक्ति आय 12,000 डॉलर सालाना हो।

Related posts