नैशनल थॉट्स /दिग्विजय क" />
Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar
World Blood Donor Day: - Why not make an identity for yourself, let's donate blood today - Pragati doot
Breaking News National

विश्व रक्तदाता दिवस :- क्यों न खुद की एक पहचान बनाएं, चलो आज रक्तदान कर आएं – प्रगति दूत

नैशनल थॉट्स /दिग्विजय कुमार सिंह (प्रगति दूत) की संग्रह रिपोर्ट :- विश्व रक्तदान दिवस हर वर्ष 14 जून को मनाया जाता है विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस दिन को रक्तदान दिवस के रूप में घोषित किया गया है। वर्ष 2004 में स्थापित इस कार्यक्रम का उद्देश्य सुरक्षित रक्त रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना और रक्तदाताओं के सुरक्षित जीवन रक्षक रक्त के दान करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करते हुए आभार व्यक्त करना है।

कार्ल लैंडस्टीनर के जन्मदिन के दिन मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस
कार्ल लैंडस्टेनर वही साइंटिस्ट हैं जिन्होंने ब्लड ग्रुप सिस्टम से दुनिया को अवगत करवाया। ब्लड ग्रुप्स का पता लगाने के लिए कार्ल लैंडस्टेनर को 1930 में नोबल पुरस्कार से भी नवाजा गया। कार्ल लैंडस्टेनर का जन्मदिन 14 जून को हुआ था, उन्हीं के जन्मदिन के दिन रक्तदाता दिवस मनाया जाता है।

कब पड़ती है खून की जरूरत
जब शरीर में खून की मात्रा कम होने लग जाए तब खून की जरूरत पड़ती है। शरीर में रक्त की आपूर्ति को पूरा करने के लिए शरीर में खून चढ़ाया जाता है।

विश्व रक्तदाता दिवस का महत्व

-विश्व रक्तदाता दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य है कि लोगों को रक्तदान के लिए जागरुक किया जाए।
-स्वेच्छा से रक्तदान करने से ब्लड बैंकों में पर्यापत मात्रा में ब्लड उपलब्ध रहेगा, जिससे जरूरत पड़ने पर मरीज को आसानी से ब्लड मिल सके।
-रक्तदान करने से कई लोगों को नया जीवन दिया जा सकता है। देश-दुनिया में कई लोगों रोजाना खून की कमी से मर जाते हैं। इस दिन को मनाने से लोगों को याद दिलाया जा सकता है कि रक्तदान करना जरूरी है।

कौन कर सकता है रक्तदान

कोई भी स्वस्थ व्यक्ति 18 साल की उम्र के बाद ब्लड डोनेट कर सकता है। उसका वजन 50 किलोग्राम से ज्यादा होना चाहिए। रक्तदान से पहले मछली, बीन्स, पालक, किशमिश या कोई भी आयरन से भरपूर चीज़ें खाएं।

ब्लड डोनेट करने के 5 फायदे

शोधकर्ताओं के मुताबिक, रक्तदान से आपके दिल की सेहत बेहतर होती है। इससे दिल के दौरे का खतरा कम होता है, क्योंकि ब्लड डोनेट करने से रक्त कुछ पतला हो जाता है। इससे थक्का जमने की आशंका कम होती है। साल में दो बार रक्तदान करने से वजन और कैलोरी भी कम होती है। विशेषज्ञों की कहना है कि रक्तदान से लिवर की सेहत में भी सुधार होता है और कैंसर की आशंका भी कम होती है।

कौन किस ग्रुप को कर सकता है रक्तदान
ब्लड ग्रुप A+ : A+ या AB+
ब्लड ग्रुप A-: A-, A+, AB- या AB+
ब्लड ग्रुप B+: B+ या AB+
ब्लड ग्रुप B- : B-, B+, AB- या AB+
ब्लड ग्रुप O+ : A+, B+, O+ या AB+
ब्लड ग्रुप O- : यूनिवर्सल डोनर्स
ब्लड ग्रुप AB+ : AB+ (यूनिवर्सल रिसीवर)
ब्लड ग्रुप AB- : AB+ या AB-
साल 2020 का विश्वा रक्त दिवस का नारा
रक्त दें और दुनिया को एक सेहतमंद जगह बनाएं
हेल्प लाइन
www.indianredcross.org – 011-23359379
www.sankalpindia.net – 9480044444
AIIMS – 011-26594405 , 011-26593726
लायंस ब्लड बैंक- 011- 42258494
रेड क्रास सोसाइटी- 011- 23716441 , 011-23716442
भारत ब्लड बैंक – 044-24631500

Related posts